कोरोना पर जीत के लिए संयम और विश्वास आवश्यक – इस्पात राज्यमंत्री कुलस्ते

मध्यप्रदेश के आदिवासी जिला मण्डला में वैश्विक महामारी कोविड 19 से आज भी बचा हुआ हैं दुनियाभर में कोहराम मचाये कोरोना मध्यप्रदेश भी अपने पैर जमाये हुये बढ़ते क्रम वही प्रदेश और जिला प्रशासन केंद्र और राज्य सरकार की कोरोना संक्रमण से बचाब के लिए भरसक कोशिश दर कौशिक कर रही है ! तमाम योजना बन रही वही जनप्रतिनिधियों द्वारा भी अपनी मौजूदगी जनता में देने आधुनिक तकनीक का सहारा ले रही हैं …. संकट प्रबन्धन की बैठक में  केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहा कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी पर जीत दर्ज करने के लिए संयम और विश्वास आवश्यक है। आने वाले कुछ दिन अत्यधिक महत्वपूर्ण है इसलिए हम सभी को लॉकडाउन का पालन करते हुए जनसामान्य को भी इसके लिए प्रेरित करना चाहिए.. ……मंडला से सलिल राय 

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संपन्न हुई बैठक में राज्यसभा सांसद संपतिया उइके विधायक मंडला देवसिंह सैयाम, विधायक बिछिया नारायण सिंह पट्टा एवं विधायक निवास डॉ. अशोक मर्सकोलेे, नगर पालिका अध्यक्ष पूर्णिमा शुक्ला, कलेक्टर डॉ. जगदीश चंद्र जटिया, पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार शुक्ला एवं सीईओ जिला पंचायत तन्वी हुड्डा सहित अन्य सदस्य सम्मिलित रहे। 

इस्पात राज्य मंत्री श्री कुलस्ते ने कहा कि कोविड-19 जैसी महामारी से निजात पाने के लिए सम्मिलित प्रयासों की आवश्यकता है। उन्होंने जनप्रतिनिधियों का आव्हान किया कि वे भी अपने-अपने अपने क्षेत्रों में लोगों को मॉस्क लगाने तथा सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने लॉकडाउन के दौरान जनसामान्य को दैनिक जरूरत की सामग्रियों की उपलब्धता के संबंध में जानकारी लेते हुए खाद्यान्न की सतत् उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। राज्यसभा सांसद संपतिया उइके ने कहा कि अन्य राज्यों से आने वाले मजदूरों पर सतत नजर रखी जाये। उन्होंने मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराने के संबंध में अपने सुझाव रखे। विधायक मंडला देवसिंह सैयाम एवं विधायक निवास डॉ. अशोक मर्सकोले ने लॉकडाऊन के कारण अन्य प्रान्तों में फंसे मजदूरों को सहायता दिलवाने तथा बाहर से आए मजदूरों का स्वास्थ्य परीक्षण तथा क्वारेंटाईन की व्यवस्था के संबंध में सुझाव दिये। 

 कलेक्टर डॉ. जगदीश चन्द्र जटिया ने लॉकडाऊन के दौरान की गई व्यवस्थाओं की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विभिन्न स्थानों से जिले में लगभग 18 हजार मजदूर वापस आए हैं जिनका स्वास्थ्य परीक्षण कराया जा चुका है। सभी मजदूरों को उनके घर में ही क्वारेंटाईन रखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि ग्राम स्तर तक बनाई गई टीमों के माध्यम से हर परिवार, हर व्यक्ति पर नजर रखी जा रही है। संदिग्ध व्यक्तियों की आवश्यकतानुसार जांच कराई जा रही हैं। प्रदेश के बाहर फंसे मजदूरों को मुख्यमंत्री प्रवासी मजदूर सहायता योजना के तहत् एक-एक हजार रूपये की राशि प्रदान की जा रही है। उन्होंने जानकारी दी कि रोजगार की उपलब्धता के लिए मनरेगा के कार्य प्रारंभ किए गए हैं। कार्यस्थल पर श्रमिकों को मॉस्क लगाना एवं सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना अनिवार्य किया गया है। पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार शुक्ला ने जानकारी दी कि जिले की सीमाओं पर 16 चैकपोस्ट बनाए गए हैं जिनमें पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम 24 घण्टे तैनात रहती है। आने-जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति की स्क्रीनिंग की जाती है। पुलिस अधीक्षक ने आग्रह किया कि जनसामान्य को सोशल मीडिया के सकारात्मक उपयोग के लिए प्रेरित करें। सीईओ जिला पंचायत तन्वी हुड्डा ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा कराये जा रहे रोजगार मूलक कार्यों की जानकारी दी। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में सम्मिलित अन्य सदस्यों से सुझाव लिये गये तथा उन पर समुचित कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *