शिवराज की संकटकालीन व्यवस्था ….

केंद्र ने बड़ी मशक्कत के बाद चुने पांच नाम, सामान्य, ओबीसी, अनुसूचित जाति, आदिवासी सबको साधा , महिला चेहरे के रूप में मीना सिंह को मंत्रिमंडल में जगह..शिवराज सिंह चौहान, ज्योतिरादित्य सिंधिया और कैलाश की चली….
कोरोना  से जूझ रहे मध्यप्रदेश में तमाम अटकलबाजियो को विराम देते हुए आज संक्षिप्त मंत्रिमंडल ने शपथ ली। पद और गोपनीयता की शपथ लेने वाले पांच मंत्रियों में दो नाम (तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत) ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ भाजपा में शामिल हुए नेताओं के हैं।  कैलाश विजयवर्गीय और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दोनों से अच्छे संबंध रखने वाले कमल पटेल का है। आदिवासी, उमरिया मानपुर से पांच बार विधायक रही मीना सिंह को भी मंत्रिमंडल में जगह मिली….

मंत्रीमंडल में जगह पाने वालों में मध्यप्रदेश का ब्राह्मण चेहरा नरोत्तम मिश्रा हैं। इस तरह से भाजपा ने शिवराज सिंह चौहान को मुख्य चेहरा और मिले जुले पांच चेहरों को मंत्री पद देकर सभी को साधने की नाकाम कोशिश की है। भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की कल देर शाम मंजूरी के बाद  आज शिवराज के  छोटे  मंत्रिमंडल ने आकार लिया ।
लॉकडाउन के बाद 29 अनाम चेहरे होंगे शामिल :-  भाजपा के एक नेतानुसार यह संकटकालीन व्यवस्था है। हमारे लिए इस समय मंत्रिमंडल महत्वपूर्ण नहीं है। सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण लोगों की कोरोना के संक्रमण से जान बचाना है।यह संक्षिप्त मंत्रिमडल कोरोना के खतरे को देखते हुए मुख्यमंत्री की सहायता के लिए बना है। लॉकडाउन के बाद मंत्रिमंडल का पूर्ण गठन होगा। तब 29 चेहरे और शामिल किए जाएंगे।

पांचों मंत्री करोड़पति, सभी अनुभवी :- शिवराज मंत्रिमंडल में नरोत्तम मिश्रा प्रभावशाली चेहरा हैं। नरोत्तम की घोषित संपत्ति 6.88 करोड़ रुपये है। शिवराज की पिछली सरकार में वह जल संसाधन एवं सूचना मंत्री थे। विधानसभा चुनाव के दौरान खर्च का ब्यौरा न दे पाने, पेड न्यूज के आरोप में नरोत्तम को उच्चतम न्यायालय ने तीन साल के लिए अयोग्य भी घोषित कर दिया था।

बाद में वह स्टे ले आए थे। नरोत्तम  का कार्यक्षेत्र भी ज्योतिरादित्य सिंधिया के दबदबे वाला ग्वालियर, चंबल संभाग ही है। वह दतिया क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। कमल पटेल हरदा से पांचवी बार विधायक बने हैं। शिवराज की पिछली सरकार में चिकित्सा मंत्री रहे हैं। पटेल की कुल घोषित संपत्ति 6.43 करोड़ रुपये है।

तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार सिंह चौहान ने पटेल पर कभी पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाते हुए नोटिस भी जारी किया था। भाजपा के पुराने नेताओं में तीसरा चेहरा पांच बार की विधायक, पिछली सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री, आदिवासी नेता मीना सिंह का है। मीना सिंह की घोषित संपत्ति 1.76 करोड़ रुपये है।ज्योतिरादित्य सिंधिया से करीब और विश्वास का रिश्ता रखने वाले तथा कमलनाथ सरकार में स्वास्थ्यमंत्री रहे अनुसूचित जाति के नेता तुलसी सिलावट को भी जगह मिली है। तुलसी सिलावट ही सबसे अमीर मंत्री हैं।उनकी कुल घोषित संपत्ति 8.26 करोड़ रुपये हैं। सिंधिया के ही करीबी सामान्य वर्ग के गोविंद सिंह राजपूत को भी मंत्री बनाया गया। उनकी कुल संपत्ति 3.87 करोड़ रुपए हैं।

ज्योतिरादित्य की बुआ समेत कई बड़े चेहरे कतार में :- ज्योतिरादित्य सिंधिया की बुआ यशोधरा राजे सिंधिया को मंत्रि परिषद में जगह मिलती रही है। अभी वह कतार में हैं। गोपाल भार्गव, भूपेन्द्र सिंह जैसे शिवराज के करीबी विश्वसनीय नेताओं के नाम पर भी कोई फैसला होना है।रामपाल सिंह, राजेन्द्र शुक्ला, गौरी शंकर बिसेन, विजय शाह जैसे नेताओं को लेकर भी चर्चा जारी है। चर्चा के केन्द्र में सिंधिया के कोटे के प्रद्युम्न सिंह, बिसाहू लाल, महेन्द्र सिंह सिसोधिया, इमरती देवी, प्रभुराम चौधरी भी हैं। समझा जा रहा है कि इन सबको मंत्रिमंडल के विस्तार में जगह मिल सकती हैं।
 मध्य प्रदेश भाजपा में जो नेता ज्योतिरादित्य के भाजपा में जाने से नाराज बताए जा रहे थे, उनमें एक नाम नरोत्तम मिश्रा का भी लिया जा रहा था। कहा जा रहा है कि नरोत्तम, कमल और मीना को जगह देकर केंद्र सरकार ने दोनों खेमो को साध लिया है।

सिंधिया के खेमे का सम्मान करके राज्य की राजनीति को एक संदेश दे दिया है। मध्य प्रदेश की राजनीति को समझने वाले बताते हैं कि यह संदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए भी है।वह राज्य के मुख्यमंत्री रहेंगे, लेकिन उनके लिए सरकार चलाने के दिन भी पहले जैसे नहीं रहने वाले हैं। माना जा रहा है कि मंत्रिमंडल विस्तार में यह तस्वीर पूरी तरह से साफ हो जाएगी। फिलहाल अभी राज्य भाजपा के हर खेमे के लिए राजनीति करने की पूरी गुंजाइश बची हुई है। साभार : फोटो सोसल मिडिया रिपोर्ट 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *